Kamayani – Jaishankar Prasad | कामायनी महाकाव्य के चिंता सर्ग

Kamayani - Jaishankar Prasad | कामायनी महाकाव्य के चिंता सर्ग

Kamayani – Jaishankar Prasad | कामायनी महाकाव्य के चिंता सर्ग Jaishankar Prasad Krit Kamayani in Hindi : नमस्कार दोस्तों ! आज हम जयशंकर प्रसाद कृत महाकाव्य “कामायनी” के चिंता सर्ग का अध्ययन करने जा रहे है। यह RPSC द्वारा आयोजित कॉलेज लेक्चरर के पाठ्यक्रम में लगा है। आप समझ ही सकते है कि पाठ्यक्रम में … Read more

Ram Ki Shakti Puja Pad | राम की शक्ति पूजा के पद (20-23)

Ram Ki Shakti Puja Pad | राम की शक्ति पूजा के पद (20-23)

Ram Ki Shakti Puja Pad | राम की शक्ति पूजा के पद (20-23) दोस्तों! आज हम कॉलेज लेक्चरर के पाठ्यक्रम में लगी कविता Ram Ki Shakti Puja Pad | राम की शक्ति पूजा के अंतिम पदों का अध्ययन करने जा रहे है। अब तक हमने कुल 19 पदों का अध्ययन कर लिया है। उम्मीद है … Read more

Nirala Krit Ram Ki Shakti Pooja | राम की शक्ति पूजा के पद (16-19)

Nirala Krit Ram Ki Shakti Pooja | राम की शक्ति पूजा के पद (16-19)

Nirala Krit Ram Ki Shakti Pooja | राम की शक्ति पूजा के पद (16-19) Nirala Krit Ram Ki Shakti Pooja 16-19 Pad in Hindi : नमस्कार दोस्तों ! जैसाकि हम सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कृत राम की शक्ति पूजा कविता का अध्ययन कर रहे है। इसी क्रम में आज हम इसके अगले 16 से 19 तक … Read more

Ram Ki Shakti Pooja Pad | राम की शक्ति पूजा के पद (13-15)

Ram Ki Shakti Pooja Pad | राम की शक्ति पूजा के पद (13-15)

Ram Ki Shakti Pooja Pad | राम की शक्ति पूजा के पद (13-15) दोस्तों ! हम RPSC द्वारा आयोजित परीक्षा कॉलेज लेक्चरर के सीरीज पाठ्यक्रम का अध्ययन कर रहे हैं। आज हम इसके पाठ्यक्रम में लगी सूर्यकांत त्रिपाठी निराला द्वारा रचित कविता Ram Ki Shakti Pooja Pad | राम की शक्ति पूजा के 13-15 पदों … Read more

Ram Ki Shakti Pooja Kavita | राम की शक्ति पूजा के पद (10-12)

Ram Ki Shakti Pooja Kavita | राम की शक्ति पूजा के पद (10-12)

Ram Ki Shakti Pooja Kavita | राम की शक्ति पूजा के पद (10-12) नमस्कार दोस्तों ! एक बार फिर से स्वागत है आप सभी का। जैसाकि हम सूर्यकांत त्रिपाठी निराला रचित “Ram Ki Shakti Pooja Kavita | राम की शक्ति पूजा कविता” का अध्ययन कर रहे है। इसके अब तक हम 09 पदों का अध्ययन … Read more

error: Content is protected !!